योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने के लिए युवा वाहिनी ने छेड़ी मुहिम

कुशीनगर. भाजपा के मित्र संगठन हिंदू युवा वाहिनी ने गोरखपुर के भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित कराने के लिए मुहिम छेड दी है. शनिवार को कुशीनगर जिले के खड्डा विधानसभा क्षेत्र के पकड़ियार बाजार से हियुवा कार्यकर्ताओं ने मोटरसाइकिल जूलूस निकाला और रामपुर भाठ गांव में सभा की। जूलूस में हियुवा कार्यकर्ताओं ने योगी को मुख्यमंत्री बनाने के समर्थन में नारे लगाते हुए करीब दो दर्जन गांवों का भ्रमण किया। कार्यकर्ता ष्बच्चा मांगे मां की गोदी, प्रदेश की जनता मांगे योगी ष्, ष्हमारा सीएम कैसा हो, योगी आदित्यनाथ जैसा होष् के नारे लगा रहे थे। जनसमर्थन के लिए पूरे कुशीनगर जिले में लगातार इस तरह का कार्यक्रम जारी रहेगा. इस जूलूस का नेतृत्व हियुवा के जिला प्रभारी व जिला महामंत्री कर रहे थे.

yogi-adityanath

फाइल फोटो

मालूम रहे कि हिंदू युवा वाहिनी एक मजबूत हिंदूवादी संगठन है। इसके संरक्षक भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ हैं। हियुवा के नेता भाजपा के ष्कमलष् चुनाव चिह्न पर ही चुनाव लड़ते हैं। प्रदेश विधानसभा के लिए चुनाव का डंका बजने के पहले से हियुवा यदा-कदा योगी को मुख्यमंत्री बनाने की मांग करती रही है। परंतु चुनाव का बिगुल बजते ही योगी को प्रदेश का भावी मुख्यमंत्री घोषित करने की मांग भाजपा से करते हुए हियुवा ने मुहिम छेड़ दी है। शनिवार को खड्डा विधानसभा के पकड़ियार बाजार से हियुवा कार्यकर्ताओं ने मोटरसाइकिल जूलूस निकाल कर करीब दो दर्जन गांवों का भ्रमण किया। हियुवा कार्यकर्ता योगी को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने के समर्थन में ष्बच्चा मांगे मां की गोदी, प्रदेश की जनता मांगे योगीष्, ष्हमारा सीएम कैसा हो योगी आदित्यनाथ जैसा होष् के नारे लगा रहे थे। जूलूस का नेतृत्व हियुवा के जिला प्रभारी अजय गोविंद शिशु व जिला महामंत्री फूलबदन कुशवाहा कर रहे थे। यह जूलूस करीब दो दर्जन गांवों से होकर गुजरा। रामपुर भाठ गांव में हियुवा कार्यकर्ताओं ने एक सभा भी की। सभा में भी वक्ताओं ने योगी को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने की वकालत की।

योगी के संगठन पर तीन सौ मुस्लिम लड़कियों के धर्मपरिवर्तन का आरोप !!

kushinagar-love-jihad

उत्तर प्रदेश का कुशीनगर मुस्लिम लड़कियों के लापाता होने के बाद उनके धर्मपरिवर्तन को लेकर चर्चा में हैं. इस जिले से पिछले दो सालो में तीन सौ से ज्यादा मुस्लिम लड़किया लापता हुई हैं. इनमे अधिकतर लड़कियां नाबालिग हैं. और उनका धर्मपरिवर्तन कराया जा रहा हैं.

DNA की रिपोर्ट के अनुसार, अधिकतर मामलो में भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ के संगठन हिन्दू युवा वाहिनी पर आरोप है. हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकार्ता मुस्लिम नाबालिग लड़कियों का जबरदस्ती धर्मपरिवर्तन करा रहे हैं. इस मामलें में पुलिस ने कोई कारवाई नहीं की हैं.

2014 से अक्टूबर 2016 के बीच, लड़कियों के लापता या अगवा करने के 389 मामले जिला पुलिस द्वारा दर्ज किए गए थे. जिनमे अधिकतर कम उम्र की लडकिया थी. ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत (AIMMM) कुशीनगर ने एक तथ्यान्वेषी रिपोर्ट में पाया कि दर्जनों मामलों में युवा मुस्लिम लड़कियों का अपहरण, बलात्कार के जरिये धर्मेपरिवर्तन के लिए मजबूर कर उनका धर्म परिवर्तन किया गया हैं.

AIMMM ने जनवरी 2016 में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के समक्ष ये रिपोर्ट जमा कराकर हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकार्ताओं के खिलाफ कारवाई की भी मांग की हैं. AIMMM के अध्यक्ष मोहम्मद सुलेमान के अनुसार, इन सभी अपराधों के पीछे हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकार्ता हैं. उनके अनुसार मुस्लिम समुदाय का पिछड़ेपन की वजह से इन मामलों में बढोतरी हो रही हैं.

उन्होंने आगे कहा कि यहां के मुसलमानसामाजिक-आर्थिक रूप से पिछड़े और कमजोर हैं. कई परिवारों जिनमे लड़कियों का अपहरण हुआ हैं उनके पिता या घर का कोई बड़ा पुरुष सदस्य प्रवासी मजदूर हैं, ये सभी असहाय और कमजोर हैं.

तो क्या ममता बनर्जी हिन्दू नहीं, मुस्लिम है ?

west-bengal-chief-minister-mamata-banerjee-dolphin-post

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्‍यक्ष ममता बनर्जी एक बार फिर सुर्खियों में हैं। व्हाट्सएप पर ममता बनर्जी से जुड़ा मैसेज वायरल हो रहा है।
सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है कि ममता बनर्जी हिंदू नहीं मुसलमान हैं। ममता बनर्जी नमाज़ पढ़ती हैं। ममता को मुस्लिम बताते हुए सोशल मीडिया पर फोटो भी प्रसारित किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज में लिखा है, क्या ममता बनर्जी का नाम मुमताज मासाना खातून है? क्या ममता बनर्जी हिंदुओं के खिलाफ साजिश रचती हैं। क्या उन्होंने जानबूझकर रेल मंत्री रहते हुए हिंदू तीर्थस्थान जाने वाली ट्रेनों को बंद कराने की कोशिश की है।

ममता बनर्जी को लेकर ये मैसेज तेजी से सोशल मीडिया में हर ग्रुप, हर शख्‍स के पास पहुंचता जा रहा है। इसमें उनके मुसलमान होने और उनके असली नाम मुमताज मासामा खातून के अलावा ये भी सवाल किया जा रहा है कि क्या उन्होंने जानबूझकर रेल मंत्री पद पर रहते हुए हिन्दू तीर्थ स्थानों पर जाने वाली ट्रेनों को बंद कराने की कोशिश की थी।

ममता बनर्जी को लेकर वायरल हो रहे मैसेज में ये बताया गया है कि उन्‍हें जितनी अच्‍छी बांग्‍ला आती है उतनी अच्‍छी ही उर्दू भी वो बोल लेती हैं। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के राज में हिंदुओं के कथित अत्‍याचार का भी आरोप लगाया गया है। ममता बनर्जी को मुसलमान बताते हुए मैसेज में कहा गया है कि वो रोज नमाज पढ़ती हैं।

इस मैसेज को लेकर सोशल मीडिया में खूब राजनीति भी  हो रही है। वायरल मैसेज को लेकर ममता बनर्जी की जमकर खिंचाई भी की जा रही है। दरअसल, नोटबंदी और चिटफंड घोटाले में टीएमसी के सांसदों की गिरफ्तारी के बाद से ममता बनर्जी बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार हमला कर रही हैं। जबकि उनके इन हमलों को देश का एक बड़ा वर्ग उनकी फ्रस्‍ट्रेशन करार दे रहा है।

आर्मी चीफ बोले -जवानों ने सोशल मीडिया के जरिए शिकायत की तो मिलेगी सजा

New Delhi: आर्मी चीफ बिपिन रावत ने कहा है कि अगर जवान शिकायत करना चाहते हैं तो सही प्लेटफॉर्म पर रखें। मुझसे सीधे भी बात कर सकते हैं। जिस तरह वीडियो पोस्ट किया है, उससे तो उन्हें सजा भी मिल सकती है। उन्होंने ये भी कहा कि बॉर्डर पर शांति बहाली को हमारी कमजोरी नहीं समझा जाए। रावत ने ये बात रविवार को आर्मी डे के मौके पर कही। रावत ने कहा कि जवानों को उनकी अचीवमेंट्स के लिए बधाई देता हूं। हमें आने वाली चुनौतियों के लिए विचार करने की जरूरत है।

जम्मू-कश्मीर में बीते साल हालात नाजुक हो गए थे। लेकिन हम उन्हें सुधारने में कामयाब रहे। किसी भी उत्तेजित करने वाली कार्रवाई पर जवाब देने में नहीं हिचकिचाएंगे। सीजफायर वॉयलेशन का जवाब दिया जाएगा। हमें हमेशा तैयार रहना होगा। चीन के साथ लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर सुधार आया है। यकीन है कि हमारे प्रतिद्वंद्वी ताकत को पहचानते हैं। हमारी सीमा पर शांति बहाली की प्रक्रिया को कमजोरी की नजर से नहीं देखा जाए। रावत ने जवानों को गैलंटरी अवॉर्ड भी दिए।
जवानों के वीडियो पर क्या बोले रावत?
army-chief-general-bipin-rawat-pti_650x400_61484469881

रावत ने कहा कि कुछ साथी अपनी समस्या को रखने के लिए सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं। इसका असर सीमा पर तैनात बहादुर जवानों पर पड़ता है। अगर जवान कोई शिकायत करना चाहते हैं तो सही प्लेटफॉर्म पर रखें। अगर वे कार्यवाही से संतुष्ट नहीं होते तो मुझसे भी बात कर सकते हैं। जिस तरह कुछ साथियों ने वीडियो पोस्ट किया, उसके लिए उन्हें सजा भी मिल सकती है। बता दें हाल ही में बीएसएफ के जवान तेज बहादुर यादव, सीआईएसएफ के जीत सिंह और आर्मी के जवान यज्ञप्रताप सिंह का वीडियो सामने आया था।
 .

UP की सभी सीटों पर RSS ने भेजे अपने लोग, बीजेपी के लिए मांग रहे वोट

mohan-bhagwat

NEW DLEHI : उत्तर प्रदेश में अगले महीने विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) ने भारतीय जनता पार्टी की मदद के लिए काम करना शुरू कर दिया है।

जानकारी मिली है कि RSS ने बीजेपी के लिए एक कैंपेन शुरू किया है। इसमें उसने सभी 403 सीटों पर अपने लोग भेजने शुरू कर दिए हैं। वे लोग घर-घर जाकर बीजेपी के लिए वोट मांग रहे हैं। संघ के लोगों द्वारा पर्चे भी बांटे जा रहे हैं। उनपर लिखा है कि राष्ट्रहित में काम करने वाले जो लोग हैं उनके पक्ष में ही मतदाता अपना मतदान करें। गौरतलब है कि संघ ने 2014 में लोकसभा चुनाव के वक्त भी ऐसा ही कैंपेन चलाया था।
यूपी में संघ की 35 शाखाएं हैं। वे सभी इसी काम में लगी हुई हैं। संघ की तरफ से सभी 403 सीटों पर अपने स्वंयसेवकों को उतार दिया गया है। हर विधानसभा में एक संयोजक और दो सह संयोजक भी बनाए गए हैं। संघ के जो 35 विभिन्न संस्करण हैं उनमें ABVP, भारतीय मजदूर संघ, विश्व हिंदू परिषद, भारतीय किसान संघ, पूर्व सैनिक सेवा परिषद और स्वदेशी जागरण मंच शामिल हैं। कार्यक्रम को करवा रहे कुछ लोगों ने बताया कि अवध प्रांत की सभी 82 विधानसभा सीटों पर मीटिंग हो चुकी है। उन्होंने बताया कि आने वाले वक्त में बाकी जगहों पर मीटिंग की जाएगी।
प्रचार में बीजेपी का नाम नहीं लेगा संघ: 
स्वंयसेवकों को सख्त हिदायत है कि प्रचार के दौरान बीजेपी का नाम नहीं लेना है। प्लान यह है कि बाद में बीजेपी कार्यकर्ता खुद आकर लोगों को समझाएंगे कि वह ही ‘असली राष्ट्रवादी पार्टी’ है। अगले महीने उत्तरप्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इसमें यूपी के अलावा पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर का नाम शामिल है।
यूपी में सात चरणों में मतदान होंगे। इनकी तारीख इस प्रकार हैं –
पहला चरण: 11 फरवरी
दूसरा चरण: 67 सीटों पर, वोटिंग 15 फरवरी
तीसरा चरण: 69 सीटों में 19 फरवरी को वोटिंग
चौथा चरण: 23 फरवरी को वोटिंग
पांचवा चरण: 27 फरवरी को वोटिंग होगी
छठा चरण: चार मार्च को वोटिंग
सातवां चरण: 8 मार्च को होगा।

महिला थी पेट दर्द से परेशान, इलाज के दौरान पेट से निकला कुछ ऐसा कि डाक्टर्स हैरान

हेल्थ डेस्क:  हमे सभी डॉक्टर्स सलाह देते है कि बिना धोए हुए सब्जियां नहीं कानी चाहिए। इससे हमें सेहत संबंधी समस्या हो सकती है, लेकिन हम इस बारें में कुछ नहीं सुनते है और अपने मन का करते है। जिसके कारण हमें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

डॉक्टर्स के अनुसार अगर हमने सब्जियां न धोई तो उनके माध्यम से कीड़े हमारे शरीर के अंदर चले जाएंगे। जिससे हमारे शरीर को काफी नुकसान होगा। ऐसा ही मामला एक सामने आया है। जिसमें महिला को पेट दर्द की समस्या थी। लेकिन बाद में जो निकला वो हैरान करने वाला था। यह मामला उत्तर प्रदेश के चंदौली जगह का है।

उत्तर प्रदेश के जनपद चंदौली में चिकित्सकों ने महीनों से दर्द से जूझ रही महिला के पेट से जो निकला उसके महिला के साथ-साथ डॉक्टर्स भी हैरान थे। कि ऐसा कैसे हो सकता है।

150-wriggling-worms-removed-1484368312

SOURCE: indiatv

मुगलसराय जिले की नई बस्ती निवासी दिलशाद अहमद की पत्नी नेहा बेगम के पेट में अचानक दर्द उठा। इसके बाद परिजनों ने तत्काल नेहा को केजी नंदा अस्पताल में भर्ती कराया, जहां चिकित्सकों ने महिला के पेट का अल्ट्रासाउंड कराया तो पता चला कि उसकी आंत में सैकड़ों केंचुए फंसे हैं। दो दिन बाद शनिवार को चिकित्सकों ने चार घंटे तक चले आपरेशन में कुल 150 केंचुए महिला के पेट से बाहर निकाले। महिला अब स्वस्थ है, जल्द ही उसे अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी।

आप यह बात जान हैरान रह जाएंगे कि हर कीड़े की लंबाई 10 इंच थी। जो कि महिला के पेट को चारों तरफ से जकड़े हुए थे।

हॉस्पिटल में महिला का इलाज करने वाले वरिष्ठ डॉक्टर आनंद तिवारी ने बताया कि उन्हें यह देख हैरानी हुई है। यह एक असामान्य घटना है। आमौतर पर किसी के शरीर में 3-4 कीड़े ही हो सकते है। ऐसे मामले आते भी है, लेकिन इतनी तदाद में कीड़े मिलेंगे। यह एक सामान्य घटना नहीं है।

पीड़ित नेहा बेगम ने बताया कि वह दर्द के कारण रातों सोई नहीं थी। उन्हें बहुत ही ज्यादा उल्दी और दर्द होता था। लेकिन अब में ठीक हूं।

अस्पताल के प्रबंधक डॉ. आनंद प्रकाश तिवारी ने कहा कि ऐसा साग-सब्जी में केंचुए के अंडे होने की वजह से हो सकता है। इसलिए खाने में साग-सब्जी का इस्तेमाल हमेशा अच्छी तरह धोकर ही करें। उन्होंने बताया कि पीड़ित महिला अब पूरी तरह स्वस्थ है, उसे जल्द ही अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

अनिल विज के बयान पर राहुल का पलटवार, कहा- ‘हिटलर, मुसोलिनी भी बड़े ब्रांड थे’

नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने महात्मा गांधी पर हरियाणा के मंत्री अनिल विज की टिप्पणियों को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर हमला बोलते हुए शनिवार को कहा कि हिटलर और मुसोलिनी भी बहुत बड़े ब्रांड थे। गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर खाते पर विज के वीडियो के साथ जारी एक पोस्ट में कहा, “हिटलर और मुसोलिनी भी बहुत बड़े ब्रांड थे।”

rahul-gandhi-modi-1484140084

हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को लेकर एक नया विवाद पैदा करते हुए शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महात्मा गांधी से बड़े ब्रांड हैं।विज अपनी विवादास्पद टिप्पणियों के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने अंबाला में मीडियाकर्मियों से कहा कि खादी ग्रामोद्योग आयोग के कैलेंडर पर महात्मा गांधी की फोटो की जगह मोदी का फोटो लगाए जाने के बाद अब नोटों पर से भी गांधी की फोटो हटाई जाएगी।

विज ने कहा, “महात्मा गांधी का ऐसा नाम है, नोट के ऊपर चिपक गया जिस दिन से, नोट का अवमूल्यन हो गया। अच्छा किया है कि गांधी का हटा के मोदी का लगाया है। मोदी ज्यादा बेहतर ब्रांड नाम है और मोदी की फोटो लगने से खादी की 14 प्रतिशत बिक्री बढ़ी है।” यह पूछे जाने पर कि मोदी सरकार द्वारा जारी किए गए नोटों पर भी महात्मा गांधी के छायाचित्र क्यों छापे जा रहे हैं? विज ने कहा, “हट जाएंगे धीरे धीरे।”

AAP ने जारी किया गोवा विधानसभा चुनाव के लिए घोषणा पत्र

kejriwal-ufjfn

पणजी: आम आदमी पार्टी (AAP) ने गोवा विधानसभा चुनावों के लिए अपना चुनाव घोषणा पत्र जारी कर दिया जिसमें महिलाओं से संबंधित मुद्दों पर जोर दिया गया है। आप के यहां मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार एल्विस गोम्स ने चुनाव घोषणा पत्र को जारी किया जिसमें कहा गया है, तटों पर महिलाओं के लिए महिला लाइफगार्ड, चेंजिग कक्ष और शौचालयों को सुनिश्चित किया जाएगा।

महिलाओं के लिए गरिमा का ऐलान करते हुए पार्टी ने कहा कि सामुदायिक न्याय केंद्रों की स्थापना की जाएगी ताकि परामर्श के लिए सुरक्षित, सुलभ और गरिमापूर्ण मंच तथा निशुल्क कानूनी सहायता उपलब्ध हो पाए।

पार्टी ने तटीय राज्य में पांच महिला थाने बनाने का वायदा भी किया। पार्टी ने हफ्ते के सातों दिन और 24 घंटे विश्व स्तरीय बस सेवा, निशुल्क वाई फाई जोन, निशुल्क साफ पानी, और बिजली के बिल को 50 फीसदी तक कम करने का आश्वासन दिया है।

मोदी की इस योजना के किसान हुए दीवाने, फसल ही नहीं, चेहरे भी खिले

modi21

केंद्र सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विशेष आग्रह पर चल रही इस योजना ने अब किसानों के चेहरे खिला दिए हैं। दरअसल, यह एक ऐसी योजना है, जिसकी देश का हर किसान लंबे समय से बाट जोह रहा था। आइए आपको बताते हैं क्या है वह योजना।

इस योजना का नाम प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना है। इस योजना की शुरुआत 8 अप्रैल 2015 को की गई। मुद्रा बैंक का मतलब है माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट्स रिफाइनेंस एजेंसी।

इस योजना का उद्देश्य गैर छोटे उद्यमियों को कम ब्याज दर पर 50 हजार से 10 लाख रुपये तक का कर्ज देने का है। ताकि बेरोजगारी को कम किया जा सके।

मोदी सरकार इस योजना पर 20 हजार करोड़ रुपये लगाएगी। यही नहीं इसके लिए 3000 करोड़ रुपये की क्रेडिट गारंटी भी रखी गई है।

मुद्रा बैंक छोटे फाइनेंस संस्थानों (माइक्रो फाइनेंस इंस्टिट्यूशन) को री-फाइनेंस करेगा ताकि वे प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत छोटे उद्यमियों को कर्ज दे सकें। यही नहीं इसमें अनुसूचित जाति/जनजाति के उद्यमियों को प्राथमिकता पर कर्ज दिए जाएंगे।

खास बात यह है कि मुद्रा बैंक योजना का लाभ किसानों को भी मिल पाएगा। दरअसल, सरकार ने उन किसानों को इस योजना से फायदा देने का फैसला किया है, जिनकी फसलें बेमौसम बारिश से खराब होती है। सरकार की कोशिश गैर कृषि कार्यों को बढ़ावा देने की होगी।

योजना के जरिये ग्रामीण इलाकों में छोटे और मझोले स्तर पर खाद्य प्रसंस्करण, ग्रामीण परिवहन सेवा, टेक्सटाइल्स और हेंडलूम प्रोजेक्ट्स को बढ़ावा देने की योजना है। सरकार का मानना है कि अचानक बाढ़ या खेती के विपरित मौसम होने पर किसानों को होने वाले नुकसान की भरपाई ये योजना बखूबी करेगी।

सरकार इस योजना के तहत उन कामों को बढ़ावा देगी, जिससे किसानों को दूसरे रोजगार धंधों को खोलने में आसानी हो और वे अतिरिक्त आय हासिल कर सके। इन कामों में ई-रिक्शा, ऑटो रिक्शा, सामान ढुलाई के लिए व्यावसायिक रिक्शेे, सैलून, ब्यूटी पॉर्लर, ड्राइक्लीन, गैरेज खोलने के लिए किसानों को प्रोत्साेहित करेगी। यहीं नहीं महिलाओं को पापड़ बनाने, अचार बनाने, मिठाई की दुकानें, आईस्क्रीम और बिस्किट ब्रैड बनाने जैसे धंधों को खोलने के लिए लोन देगी।

कांग्रेस का दामन छोड़ बेअंत सिंह की बेटी ने थामा ‘कमल’

gurkanwal-kaur_ani_150117

जालंधर। पंजाब में सत्तारूढ़ शिरोमणि अकाली दल में शामिल होने की खबरों का खंडन करने के बाद, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की बेटी गुरकंवल कौर वित्त मंत्री अरुण जेटली की उपस्थिति में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गई। जालंधर छावनी से 2002 में कांग्रेस विधायक रह चुकी गुरकंवल कौर ने शनिवार को बताया है कि कांग्रेस ने जालंधर छावनी से पिछले विधानसभा चुनाव में मेरा टिकट काट दिया था और इसके बाद लगातार मेरी अनदेखी की जा रही थी। इसलिए मैं भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गई हूं।

उन्होंने कहा है कि केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दिल्ली में एक समारोह में मुझे पार्टी में शामिल करवाया और मैं बिना शर्त बीजेपी में शामिल हुई हूं। पंजाब से आतंकवाद समाप्त करने वाले कांग्रेसी मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की बेटी ने किसी नेता का नाम लिए बगैर कहा, मैंने कांग्रेस नेताओं के समक्ष बार बार मिन्नते की। उनके हाथ जोड़े, लेकिन इसके बावजूद मेरी बात पर कोई सुनवाई नहीं हुई और लगातार मेरी उपेक्षा हो रही थी। इसलिए मैंने यह कदम उठाया है।

गुरकंवल ने कहा कि वह कांग्रेस छोडकर बीजेपी में शामिल हुई हैं इसके लिए राज्य का कांग्रेस नेतृत्व ही जिम्मेदार है। गौरतलब है कि गुरकंवल कौर पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की बेटी हैं तथा लुधियाना के कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्टू की बुआ हैं । बेअंत के एक अन्य सुपुत्र मौजूदा विधानसभा में कांग्रेस के विधायक हैं ।