पांचवी पास MDH वाले दादा जी है देश के सबसे अमीर CEO

मुंबई: भारतीय उपभोक्ता बाजार में सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पाद के सीईओ को शायद ही किसी ने किसी मैगजीन कवर पर देखा हो, लेकिन वह देश के लोगों के लिए जाना-पहचाना चेहरा हैं। MDH मसाले के हर पैक पर 94 साल के धरमपाल गुलाटी को पगड़ी पहने हुए आपने जरूर देखा होगा।

पांचवीं पास इस शख्स ने पिछले वित्तीय वर्ष में 21 करोड़ रुपए कमाई की जो गोदरेज कन्ज्यूमर के आदि गोदरेज और विवेक गंभीर, हिंदुस्तान युनिलीवर के संजीव मेहता और ITC के वाई सी देवेश्वर की कमाई से भी ज्यादा है। MDH के नाम से मशहूर उनकी कंपनी ‘महाशियां दी हट्टी’ को इस साल कुल 213 करोड़ रुपए का लाभ हुआ। इस कंपनी के 80 प्रतिशत हिस्सेदारी गुलाटी के पास हैं।

पांचवीं पास गुलाटी को दादाजी या महाशयजी के नाम से भी जाना जाता है। उनकी पहचान एक ऐसे मेहनती उद्यमी के तौर पर है जो फैक्ट्री, बाजार और डीलर्स का नियमित दौरा करते हैं। जब तक उनको इस बात की तसल्ली नहीं मिल जाती है कि कंपनी में सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा है, उन्हें चैन नहीं पड़ती है। वह रविवार को भी फैक्ट्री जाते हैं।

motivational-life-journey-of-mahashay-dharmpal-founder-of-m-d-h-from-tonga-driver-to-king-of-spices

दूसरी पीढ़ी के आंट्रप्रनोयर गुलाटी ने 60 साल पहले एमडीएच जॉइन की थी। वह कहते हैं, मेरे काम करने के पीछे यह प्रेरणा रहती है कि उपभोक्ताओं को कम-से-कम दाम में अच्छी गुणवत्ता का उत्पाद उपलब्ध कराया जाए। मैं अपनी क्षमता के मुताबिक अपनी सैलरी का 90 फीसदी हिस्सा परोपकार में देता हूं।

1919 में पाकिस्तान के सियालकोट में एक छोटी सी दुकान खोलने वाले चुन्नी लाल ने कभी नहीं सोचा होगा कि उनका बेटा इस छोटी सी दुकान को 1,500 करोड़ रुपए के साम्राज्य में तब्दील कर देगा। गुलाटी के इस करोड़ों के साम्राज्य में मसाला कंपनी, करीब 20 स्कूल और एक हॉस्पिटल शामिल है।

देश के विभाजन के बाद गुलाटी दिल्ली के करोल बाग आकर बस गए थे और तब से वह भारत में 15 फैक्ट्रियां खोल चुके हैं जो करीब 1,000 डीलरों को सप्लाई करती हैं। एमडीएच के दुबई और लंदन में भी ऑफिसेज हैं। यह मसाला कंपनी लगभग 100 देशों से एक्सपोर्ट करती है। गुलाटी के बेटे कंपनी का हर कामकाज संभालते हैं और उनकी 6 बेटियां डिस्ट्रिब्यूशन का काम संभालती हैं। कंपनी अपनी सफलता का श्रेय अपनी सप्लाई चेन को देती है। कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग हो या कर्नाटक, राजस्थान से लेकर अफगानिस्तान और ईरान से मसाले मंगाना हो, इन सब के लिए कंपनी की सप्लाइ चेन काफी मजबूत है।

एवरेस्ट ब्रैंड के मालिक एस नरेंद्र कुमार 13 % शेयर के साथ मार्केट की अगुवाई कर रहे हैं जबकि उनके पीछे 12 % शेयर के साथ MDH है। शहरीकरण के दौर में उपभोक्ताओं के बीच पैकेटबंद मसालों की मांग बढ़ रही है जिससे मसालों और सॉस इत्यादि की बिक्री 2016 में 16 % बढ़ी है। मसाला बाजार में डीएस फूड्स, पतंजलि जैसी घरेलू कंपनियां भारत में आगे हैं जबकि सॉस जैसे अंतरराष्ट्रीय उत्पादों में नेस्ले और हिंदुस्तान युनिलीवर जैसी कंपनियां आगे हैं।

फ्यूचर ग्रुप के एफएमसीजी प्रेजिडेंट देवेंद्र चावला ने बताया, ‘एक्सपोर्ट मार्केट में अपनी जगह बनाना भारत के घरेलू बाजार में जगह बनाने से कहीं ज्यादा आसान है क्योंकि यहां हर राज्य या क्षेत्र में लोगों की पसंद बदल जाती है। यह एक बड़ी चुनौती है। भारतीय कंपनियां इस मामले में भी सीमित रह जाती हैं क्योंकि वे नए उपभोक्ता वर्ग युवाओं के लिए चाइनीज, थाई और इटैलियन कंपनियों जैसे उत्पाद नहीं उतार पाती है।’

एमडीएच के 60 से ज्यादा उत्पाद हैं। इसके सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पाद देसी मिर्च, चाट मसाला और चना मसाला हैं जिनके करीब-करीब हर महीने करोड़ों पैकेट बिक जाते हैं। एमडीएच के वाइस प्रेजिडेंट राजिंदर कुमार ने बताया, ‘हम प्रतिद्ंद्वियों को अपनी कीमतों से मात दे रहे हैं। बाकी कंपनियां हमारी प्राइसिंग स्ट्रैटिजी को अमल में लाने की कोशिश करती हैं। चूंकि हम कीमतें कम रखते हैं इससे हमें कुल मिलाकर फायदा ज्यादा हो जाता है।’

Advertisements