साथ-साथ दिखे पीएम मोदी और नीतीश कुमार

modi_nitish_759

नई दिल्ली: सियासत का सही मायना यही है कि जो सही को सही और गलत को गलत कहने की हिम्‍मत दिखा सके। इस पैमाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार दोनों ही नेता खरे उतरते हैं। दोनों ही नेताओं में ये देखा गया है कि हमेशा ये लोग सही को सही और गलत को गलत कहते हैं। ऐसा बहुत कम ही होता है  जब सिर्फ विरोध के चक्‍कर में विरोध हो। पटना में गुरु गोविंद सिंह जी के 350 वें प्रकाश पर्व को कुछ खास अंदाज में मनाया जा रहा है। इस कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पहुंचे। एयरपोर्ट पर बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका स्‍वागत किया। इस मौके पर दोनों ही नेता एक दूसरे के मुरीद नजर आए।

गुरु गोविंद सिंह जी के 350 वें प्रकाश पर्व के मौके पर लोगों को संबोध‍ित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरु गोविंद सिंह जी को दिव्‍यात्‍मा बताया। उन्‍होंने कहा कि साढे तीन सौ साल पहले एक ऐसे दिव्यात्मा ने जन्‍म लिया जिसने मानवता को एक दिशा दी। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पटना साहिब गुरुद्वारे में अभूतपूर्व और सफल आयोजन के लिए बिहार की जनता और यहां के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की जमकर तारीफ की। इतना ही नहीं मोदी ने बिहार के मुख्‍यमंत्री के शराबबंदी के प्रयासों की भी खूब तारीफ की। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये प्रकाश पर्व नीतीश कुमार को इस मामले में और काम करने के लिए शक्ति देगा। उन्‍होंने कहा कि बिहार के मुख्‍यमंत्री जनता की भलाई के लिए आगे भी काम करते रहें इसके लिए मेरी शुभकामनाएं उनके साथ हैं।

वहीं दूसरी ओर, कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ की। पीएम ने बिहार में शराबबंदी को सराहा तो उन्‍होंने गुजरात में मोदी के शराबबंदी के फैसले को सराहा। प्रधानमंत्री गुरुवार को पटना एयरपोर्ट से सीधे गांधी मैदान पहुंच थे। प्रधानमंत्री ने सबसे पहले गुरुग्रंथ साहिब के दर्शन कर मत्‍था टेका। इस कार्यक्रम में कई बड़ी हस्‍ितयों ने शिकरत की। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ  सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद, पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी शामिल हुईं। लालू प्रसाद यादव भी इस कार्यक्रम में अपने बेटों के साथ पहुंचे थे।

लेकिन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार की ये बढ़ती नजदीकियां कई नेताओं को रास नहीं आ रही है। दरसअल, इस बार बिहार में महागठबंधन की सरकार है। जिसमें जेडीयू के साथ आरजेडी और कांग्रेस भी शामिल है। जबकि इससे पहले बिहार में बीजेपी और जेडीयू गठबंधन की सरकार हुआ था। जेडीयू एनडीए में भी शामिल थी। लेकिन, बाद में दोनों के बीच मतभेद के चलते बीजेपी और जेडीयू अलग-अलग हो गए थे। लेकिन, अब एक बार फिर बीजेपी और जेडीयू या ये कहें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की नजदीकी बढ़ती जा रही है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले का भी नीतीश कुमार समर्थन कर चुके हैं। जबकि उनके सहयोगी दल आज तक इसके विरोध हैं।

Advertisements